बुधवार, 4 अगस्त 2010

ठहाकों से लबरेज़ एक शानदार ब्रांडिग-अमूल













बीते चालीस बरसों में प्रिंट और आउटडोर विज्ञापन अभियानों में जिस एक ब्रांड ने सबसे ज़्यादा मुस्कुराहटें,ठहाके और प्रशंसा बटोरी है वह है हम सबकी ज़िन्दगी का ख़ास दोस्त अमूल. अटरली-बटरली अमूल कहते हुए वे जिस ख़ालिस भारतीय परिवेश में बात को कह जाते हैं वह बेमिसाल है. लगभग हर बड़े मेट्रो में अमूल के होर्डिंग्स मिल जाएंगे. आर्थिक मंदी के इन पाँच-दस सालों में अमूल ने अपने एडवरटाइज़िंग बजट में काफ़ी बचत की है और अब उसके होर्डिंग्स शहर के प्रमुख स्थानों पर नज़र आने के बजाय ऐसी लोकेशन्स पर नज़र आ रहे हैं जो किराये की दृष्टि से अपेक्षाकृत से सस्ते हैं. इस वजह से अमूल की विज़िबलिटी तो कम हुई है लेकिन अमूल की बात को कहने वाली अटरली-बटरली गुड़िया की फ़ैन-फ़ॉलोइंग इतनी ज़बरदस्त है कि उसके क़द्रदान कई बार बाक़यदा देखने जाते हैं कि अब अमूल नया क्या कह रहे हैं.











मेरे अज़ीज़ रंगकर्मी मित्र और जानेमाने एडमेन भरत दाभोलकर(जिन्हें आप काफ़ी धारावाहिकों में देख भी चुके हैं) किसी ज़माने में अमूल के अभियान की रचना प्रक्रिया का अहम हिस्सा रहे हैं.वे पहले डाकून्हा एडवरटाइज़िंग में कार्यरत रहे हैं. इसी एजेन्सी ने बरसों-बरस अमूल का एकाउंट हैण्डल किया है. अमूल विज्ञापन अभियान के ख़ास बिंदु इस प्रकार रहे हैं:



-देश-दुनिया में होने वाली हलचलों पर नज़दीक़ी निगाह रखते हुए हल्के-फ़ुल्के अंदाज़ में कुछ ऐसा कह जाना जो संदेश भी दे और मुस्कुराहट भी लाए.

- अमूल ने अपने ब्रांड को जनमानस में दर्ज़ करने के लिये विज्ञापन के मूल सिंध्दांत से कभी समझौता नहीं किया और हमेशा अपने क्रिएटिव एलीमेंट्स को नहीं बदला, यथा अमूल के लोगो तथा उसकी पंच लाइन (अटरली-बटरली) लिखने का अंदाज़ और उसका शुभंकर यानी....अटरली-बटरली गर्ल

-अमूल ने कभी भी किसी भी ब्रांड पर्सनेलिटी को अपने प्रमोशन्स में इस्तेमाल नहीं किया. हमेश अटरली-बटरली गर्ल ही उसकी पर्सनेलिटी या ब्रांड एम्बेसेडर बनी रही. अमूल का मानना है कि जिस तेज़ी से सेलिब्रिटीज़ की फ़ॉलोइंग में बदलाव आता है उसको देखते हुए लम्बे समय तक एक सितारे को लेकर ब्रांड रीकॉल देना मुश्किल होता है.

-सरल भाषा,देसी परिवेश,समसामयिक घटनाक्रम और टी.आई (टारगेट ऑडियंस) के रूप में बच्चे और ग्रहिणी तक अपनी बात पहुँचाने के लिये अटरली-बटरली गर्ल से बेहतर शुभंकर और क्या हो सकता था.



कोशिश करूंगा कि आपको फ़िर कभी अमूल के बहुत पुराने इश्तेहारों  भी दिखाऊँ. आशा है मेरी इस पोस्ट से आपके चेहरे पर भी मुस्कुराहट आएगी क्योंकि टेस्ट ऑफ़ इण्डिया जो है..अटरली-बटरली अमूल.

11 टिप्‍पणियां:

  1. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी, हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

    ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

    आप भी सादर आमंत्रित हैं,
    http://sanskrit-jeevan.blogspot.com/ पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के प्रसार में अपना योगदान दें ।
    धन्‍यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तम लेखन… आपके नये ब्लाग के साथ आपका स्वागत है। अन्य ब्लागों पर भी जाया करिए।
    मेरे ब्लाग "डिस्कवर लाईफ़" जिसमें हिन्दी और अंग्रेज़ी दौनों भाषाओं मे रच्नाएं पोस्ट करता हूँ… आपको आमत्रित करता हूँ। बताएँ कैसा लगा। धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  3. ठहाकों से लबरेज़ एक शानदार ब्रांडिग-अमूल
    shat-pratishat sahmat hoon aapke is lekh se.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ठहाकों से लबरेज़ एक शानदार ब्रांडिग-अमूल
    शत-प्रतिशत सहमत हूँ आपके इस आलेख से.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "हिन्दप्रभा" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    उत्तर देंहटाएं
  6. ब्‍लॉग्‍स की दुनिया में मैं आपका खैरकदम करता हूं, जो पहले आ गए उनको भी सलाम और जो मेरी तरह देर कर गए उनका भी देर से लेकिन दुरूस्‍त स्‍वागत। मैंने बनाया है रफटफ स्‍टॉक, जहां कुछ काम का है कुछ नाम का पर सब मुफत का और सब लुत्‍फ का, यहां आपको तकनीक की तमाशा भी मिलेगा और अदब की गहराई भी। आइए, देखिए और यह छोटी सी कोशिश अच्‍छी लगे तो आते भी रहिएगा


    http://ruftufstock.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस सुंदर से नए चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप सभी का हार्दिक आभार. बीते तीन चार साल से ब्लॉग की दुनिया में विभिन्न विषयों पर काम करते रहने के बाद विज्ञापनों की दुनिया में हो रही हलचलों को लेकर कुछ लिखने का मानस था.कोशिश करूंगा कि ये सिलसिला अनियमित रूप से ही सही..जारी रख सकूँ..
    संजय पटेल
    www.joglikhisanjaypatelki.blogspot.com
    www.surpeti.blogspot.com
    www.ekmulakat.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. अमूल को किसी भी ब्रांड एम्बेसेडर की ज़रूरत नहीं पडी क्योंकि उनके हर विग्यापन मौजूदा घटनाओं पर होने के कारण उस घटना के पात्र ही उनके एंबेसेडर बन जाते हैं.ये खोज का विषय हो सकत है कि किसे नें इसपर आपत्ति या मेहनताना दर्ज़ कराया कि नही?

    अगली कडे की प्रतिक्षा में....

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा , आप हमारे ब्लॉग पर भी आयें. यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . हम आपकी प्रतीक्षा करेंगे ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    डंके की चोट पर

    उत्तर देंहटाएं

नवाज़िश,करम आपका...आप आए !